Monday, October 14, 2019
Md Tanweer Alam

Md Tanweer Alam

स्वच्छता के साथ वृक्षा रोपण में भाग लेकर रोपित किये गये 60 पौधे।

स्वच्छता के साथ वृक्षा रोपण में भाग लेकर रोपित किये गये 60 पौधे।

15 दिवसीय प्रशिक्षण प्राप्त करने के बाद सभी सफल प्रतिभागियों ने कृषि महाविद्यालय के श्रमदान, स्वच्छता के साथ वृक्षा रोपण में भाग लेकर रोपित किये गये 60 पौधे।सफाई करने से अच्छा गंदगी कैसे न हो इस पर विचार करने की आवश्यकताः प्राचार्य डा॰ पारस नाथ दिनांक 25 सितम्बर, 2019 को भोला पासवान शास्त्री कृषि महाविद्यालय, पूर्णियाँ में कृषि उपादान विक्रेताओं के लिए समेकित...

कृषि महाविद्यालय, पूर्णियाँ में भोला पासवान शास्त्री जयंती समारोह का आयोजन

कृषि महाविद्यालय, पूर्णियाँ में भोला पासवान शास्त्री जयंती समारोह का आयोजन

दिनांक 21.09.2019 को भोला पासवान शास्त्री कृषि महाविद्यालय, पूर्णियाँ बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री स्व॰ भोला पासवान शास्त्री का जन्म दिवस...

दिव्य ज्योति जाग्रति संस्थान के द्वारा श्रीमद् भागवत कथा ज्ञान यज्ञ रंगभूमि मैदान पूर्णिया

दिव्य ज्योति जाग्रति संस्थान के द्वारा श्रीमद् भागवत कथा ज्ञान यज्ञ रंगभूमि मैदान पूर्णिया

श्री मद भागवत कथा , रंगभूमि मैदान , पूर्णिया , बिहार ,प्रथम दिवस की कुछ झलकियां जिसमें आज मुख्य अतिथि...

नौ वर्षोंके सतत् प्रयास के बाद 35 बिहारबटालियन एनसीसी, पूर्णियाँ के द्वारा कृषिमहाविद्यालय

नौ वर्षोंके सतत् प्रयास के बाद 35 बिहारबटालियन एनसीसी, पूर्णियाँ के द्वारा कृषिमहाविद्यालय

नौ वर्षों के सतत् प्रयास के बाद 35 बिहार बटालियन एनसीसी, पूर्णियाँ के द्वारा कृषि महाविद्यालय, पूर्णियाँ में की गई एनसीसी...

पाँच दिवसीय विहुला विषहरी पूजा एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम का किया गया आयोजन।

पाँच दिवसीय विहुला विषहरी पूजा एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम का किया गया आयोजन।

गुलाम मुर्तजा सवांददाता प्राणपुर पाँच दिवसीय विहुला विषहरी पूजा एवं सांस्कृतिक कार्यक्रम का किया गया आयोजन। क्षेत्र के केहुनियाँ पंचायत...

स्वच्छता पखवाड़ा के चैदहवें दिन हिन्दी दिवस समारोह का आयोजन,भोला पासवान शास्त्री कृषि महाविद्यालय, पूर्णियाँ

स्वच्छता पखवाड़ा के चैदहवें दिन हिन्दी दिवस समारोह का आयोजन,भोला पासवान शास्त्री कृषि महाविद्यालय, पूर्णियाँ

भोला पासवान शास्त्री कृषि महाविद्यालय, पूर्णियाँ में स्वच्छता पखवाड़ा के चैदहवें दिन हिन्दी दिवस समारोह का आयोजन किया गया। इस...

भोला पासवान शास्त्री कृषि महाविद्यालय, पूर्णियाँ में कृषि उपादान विक्रेताओं के लिएसमेकित पोषक तत्व प्रबंधन विषय पर

भोला पासवान शास्त्री कृषि महाविद्यालय, पूर्णियाँ में कृषि उपादान विक्रेताओं के लिएसमेकित पोषक तत्व प्रबंधन विषय पर

दिनांक 11 सितम्बर, 2019 को भोला पासवान शास्त्री कृषि महाविद्यालय, पूर्णियाँ में संयुक्त सचिव भारत सरकार, कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय, कृषि सहकारिता एवं किसान कल्याण विभाग, नई दिल्ली एवं बिहार कृषि विश्वविद्यालय, सबौर, भागलपुर के निर्देश पर भोला पासवान शास्त्री कृषि महाविद्यालय, पूर्णिया के मृदा विज्ञान एवं कृषि रसायन विज्ञान विभाग द्वारा कृषि उपादान विक्रेताओं के लिए समेकित पोषक तत्व प्रबंधन विषय पर 15 दिवसीय तीसरे सर्टिफिकेट कोर्स (11 से 25 सितम्बर, 2019) का आयोजन प्रारंभ किया गया। इस 15 दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम की अध्यक्षता महाविद्यालय के प्राचार्य डा॰ पारस नाथ ने किया। इस अवसर पर मृदा विज्ञान एवं कृषि रसायन विज्ञान विभाग के विभागाध्यक्ष, डा जनार्दन प्रसाद द्वारा फूलों का गुलदस्ता के द्वारा मुख्य अतिथि डा॰ पारस नाथ को सम्मानित किया गया। कार्यक्रम का विधिवत शुभारम्भ मुख्य अतिथि प्राचार्य एवं अन्य वैज्ञानिकों तथा प्रतिभागियों द्वारा संयुक्त रूप से दीप प्रज्जवलीत कर किया गया। अपने सम्बोधन में प्राचार्य डा॰ नाथ ने महाविद्यालय में प्रशिक्षण हेतु आये हुए सभी प्रतिभागियों का स्वागत करते हुए बताया कि कृषि उपादान विक्रेताओं एवं कृषकों का अन्योन्याश्रय सम्बन्ध होता है। इसलिए कृषि उपादान विक्रेताओं के द्वारा ही अधिकतर किसानों को खाद बीज एवं दवाओं के बारे में प्राथमिक सलाह मिलती है और उसी के अनुरुप किसान अपने खेतों में खाद बीज एवं दवाओं का उपयोग करते हैं। इस विषय की गंभीरता को ध्यान में रखते हुए भारत सरकार द्वारा उर्वरक नियंत्रण अध्यादेश में संसोधन करके 10़2 विज्ञान से इन्टरमिडिएट परीक्षा पास करने वाले छात्र-छात्राओं को स्वरोजगार हेतु प्रेरित करने के लिए कृषि उपादान विक्रेताओं के रूप में प्रशिक्षित करने हेतु समेकित पोषक तत्व प्रबंधन विषय पर 15 दिवसीय सर्टिफिकेट कोर्स का आयोजन की शुरूआत की गई है। उन्होंने कहा कि यह प्रशिक्षण कार्यक्रम लगातार पन्द्रह दिनों तक निर्धारित समय सारिणी के अनुसार चलाया जाएगा। मृदा स्वास्थ्य एवं वातावरण को ध्यान में रखते हुए संतुलित रासायनिक उर्वरक, कीटनाशक, फफुंदनाशक आदि कृषि उपादानों के गुणवता युक्त उत्पादों का उपयोग से बेहतर परिणाम प्राप्त होंगे। क्योंकि प्रकृति के अतुल्य वरदानों से सजी भारतीय उपमहाद्वीप की उपजाऊ भूमि, विश्व के हर ऋतु का आस्वादन करते भूभाग, जलप्लावित नदियाँ एवं करोडों परिश्रमी समर्पित किसानों वाला यह देश भारत सहज ही अपनी आन्तरिक संसाधनों का विवेकपूर्ण उपयोग कर विश्व की कृषि महाशक्ति बन सकता है, इसके लिए हम सभी को समेकित रूप से उपलब्ध संसाधनों का प्रयोग करने की आवश्यकता है। आज किसानों के द्वारा अपने अथक परिश्रम से भारत खाद्यान्न उत्पादन के मामले में आत्मनिर्भर हो पाया है। यदि आँकड़ों की बात करें तो भारत दुग्ध उत्पादन में पहले स्थान तथा फलों एवं सब्जियों के उत्पादन में दूसरे स्थान पर है। भारत ने विश्व के दाल उत्पादन में 25 का योगदान दिया, जो कि किसी एक देश के लिहाज से सबसे अच्छी उपलब्धि है। इसके अतिरिक्त चावल उत्पादन में भारत की हिस्सेदारी 22 और गेहूँ उत्पादन मे 13 है। कृषि और कृषकों के लिए सुधार के लिए नवीन तकनीकी का समेकित उपयोग एक अहम् भूमिका अदा कर सकती है। देश की आबादी और प्राकृतिक संसाधनों की सह अस्तित्वता को सुनिश्चित करने के लिए संसाधनों का सतत् एवं समुचित प्रबन्धन आवश्यक है। नोडल पदाधिकारी-सह-समन्वयक डा0 पंकज कुमार यादव, सहायक प्राध्यापक-सह-कनीय वैज्ञानिक, मृदा विज्ञान ने बताया कि प्रशिक्षण कार्यक्रम में प्रतिभागियों की संख्या अधिकतम तीस (30) होनी चाहिए। कृषि उपादान विक्रेताओं के लिए समेकित पोषक तत्व प्रबंधन विषय पर 15 दिवसीय सर्टिफिकेट कोर्स में प्रशिक्षण प्राप्त करने हेतु 30 प्रतिभागियों में क्रमशः पूर्णिया से विपिन कुमार, सतीश कुमार, अभिनन्दन कुमार, प्रमोद कुमार ठाकुर, बड़हारा कोठी से, बमबम कुमार जलालगढ़ से, साजिद आलम डगरूआ से, हसनैन रजा श्रीनगर से, मिशन आनंद रूपौली से, अररिया से मुकेश कुमार साह भरगामा एवं मधेपुरा से संजय कुमार, गंगा प्रसाद, नेहा कुमारी, शानू कुमार, पुनीत कुमार, रौशन कुमार, अभिषेक कुमार, फैजुर रहमान, पवन कुमार, बमशंकर कुमार, रोहित कुमार, राजेश कुमार सहनी, आशीष कुमार, अमितेश राणा, चन्दन कुमार कटिहार जिला के रोज सरकार जमीरउद्धीन नव कुमार दास श्रवण कुमार दास आदिल प्रकाश सिंह आदि कुल 30 प्रतिभागियों में सबसे अधिक 15 प्रतिभागी मधेपुरा, 01 प्रतिभागी अररिया, 08 प्रतिभागी पूर्णियाँ एवं 05 प्रतिभागी कटिहार जिले के विभिन्न प्रखण्डों से सम्मिलित हुए एंव प्रशिक्षण कार्यक्रम में अपना पंजीकरण कराया। नोडल पदाधिकारी डा0 यादव द्वारा पूरे प्रशिक्षण की विधिवत जानकारी प्रदान करते हुए बताया कि समेकित पोषक तत्व प्रबंधन विषय पर 15 दिवसीय सर्टिफिकेट कोर्स अन्तर्गत कृषि की आधुनिक तकनीक की जानकारी के लिए 15 दिनों तक बिहार कृषि विश्वविद्यालय, सबौर, भागलपुर की विभिन्न इकाइयों के वैज्ञानिकों एवं विषय

​मखाना-सह-मछली उत्पादन तकनीक विषय पर पांच दिवसीय प्रशि़क्षण के तकनीकी सत्र के 5वें दिन प्रमाण पत्र वितरण समारोह कार्यक्रम आयोजित

​मखाना-सह-मछली उत्पादन तकनीक विषय पर पांच दिवसीय प्रशि़क्षण के तकनीकी सत्र के 5वें दिन प्रमाण पत्र वितरण समारोह कार्यक्रम आयोजित

भोला पासवान शास्त्री कृषि महाविद्यालय, पूर्णियाँ बिहार के द्वारा पांच दिवसीय आत्मा, मधुबनी बिहार द्वारा प्रायोजित मखाना-सह-मछली उत्पादन तकनीक विषय...

Page 1 of 17 1217